इस खबर ने बढ़ा दी मोदी सरकार की चिंता, हो गया नुकसान

[ad_1]

भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट, 6.24 अरब डॉलर घटकर 583.945 अरब डॉलर पर पहुंचा- India TV Paisa
Photo:AP

भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट, 6.24 अरब डॉलर घटकर 583.945 अरब डॉलर पर पहुंचा

मुंबई: देश का विदेशी मुद्रा भंडार पांच फरवरी को समाप्त सप्ताह में 6.24 अरब डॉलर घटकर 583.945 अरब डॉलर रह गया। रिजर्व बैंक के शुक्रवार को जारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है। इससे पिछले सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 4.852 अरब डॉलर बढ़कर 590.185 अरब डॉलर की रिकॉर्ड ऊंचाई को छू गया था। भारतीय रिजर्व बैंक के शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार पांच फरवरी को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों (एफसीए) के घटने की वजह से मुद्रा भंडार में गिरावट आई। विदेशीमुद्रा परिसंपत्तियां, कुल विदेशी मुद्रा भंडार का अहम हिस्सा होती है। 

रिजर्व बैंक के साप्ताहिक आंकड़ों के अनुसार समीक्षाधीन अवधि में एफसीए 4.88 अरब डॉलर घटकर 542.338 अरब डॉलर रह गयी। एफसीए को दर्शाया डॉलर में जाता है, लेकिन इसमें यूरो, पौंड और येन जैसी अन्य विदेशी मुद्रा सम्पत्ति भी शामिल होती हैं। आंकड़ों के अनुसार समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान देश के स्वर्ण भंडार का मूल्य 1.327 अरब डॉलर घटकर 34.967 अरब डॉलर रह गया। देश को अंतरराष्ट्रीय मु्द्रा कोष (आईएमएफ) में मिला विशेष आहरण अधिकार 60 लाख डॉलर घटकर 1.503 अरब डॉलर रह गया जबकि आईएमएफ के पास आरक्षित मुद्रा भंडार भी 2.7 करोड़ डॉलर घटकर 5.138 अरब डॉलर रह गया।

रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 12 पैसे बढ़कर 72.75 के स्तर पर बंद 

विदेशी कोषों की आवक जारी रहने के बीच रुपया शुक्रवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 12 पैसे की मजबूती के साथ 72.75 के स्तर पर बंद हुआ। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में रुपया डॉलर के मुकाबले 72.79 पर खुला और दिन के कारोबार के दौरान इसने 72.75 का उच्च स्तर और 72.83 के निम्न स्तर को देखा। रुपया अंत में अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले 72.75 पर बंद हुआ, जो पिछले बंद भाव से करीब 12 पैसे की बढ़ोतरी दर्शाता है। रुपया गुरुवार को 72.87 पर बंद हुआ था। 

इसबीच छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की स्थिति को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.20 प्रतिशत बढ़कर 90.60 पर पहुंच गया। शेयरखान के शोध विश्लेषक सैफ मुकदम ने कहा कि कच्चे तेल की कीमतों में नरमी और एफआईआई आवक जारी रहने के चलते रुपये में मजबूती आई। साथ ही व्यापक आर्थिक आंकड़ों में सुधार की उम्मीद ने भी रुपये को बल दिया। विदेशी मुद्रा कारोबारियों ने कहा कि प्रतिभागियों की मुद्रास्फीति और औद्योगिक उत्पादन के आंकड़ों पर नजर है और उम्मीद से बेहतर आंकड़े रुपये की चाल तेज कर सकते हैं। 

शेयर बाजार के अस्थाई आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशकों ने गुरुवार को सकल आधार पर 944.36 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे। इसबीच वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा 0.64 प्रतिशत गिरकर 60.75 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया। साप्ताहिक आधार पर डॉलर के मुकाबले रुपये में 18 पैसे की बढ़त हुई। रिलायंस सिक्योरिटीज के वरिष्ठ शोध विश्लेषक श्रीराम अय्यर ने कहा कि जोरदार इक्विटी अंतर्प्रवाह के चलते शुक्रवार को और इस सप्ताह रुपये में बढ़त हुई। हालांकि, भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा पूरे सप्ताह लगातार हस्तक्षेप के चलते मुद्रा की बढ़त पर अंकुश लगा। इस सप्ताह कमजोर डॉलर सूचकांक ने भी स्थानीय मुद्रा को मजबूती दी।



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Main Menu