कमलनाथ और दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश के सबसे बड़े गद्दार : ज्योतिरादित्य सिंधिया

0
156


बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (फाइल फोटो).

खास बातें

  • मध्यप्रदेश में 27 विधानसभा सीटों के लिए हो रहे उपचुनाव
  • कांग्रेस से बीजेपी में आए सिंधिया गुट के कई नेता चुनाव मैदान में
  • चुनाव में बीजेपी के साथ ज्योतिरादित्य की प्रतिष्ठा भी दांव पर

नई दिल्ली:

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में विधानसभा उपचुनाव (Assembly By Election) के लिए जोरआजमाइश तेज होने लगी है और इसके साथ बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) का एक-दूसरे पर लांछन लगाने का सिलसिला भी तेज हो गया है. ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के साथ कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में आए विधायक चुनाव मैदान में हैं. सत्तासीन बीजेपी जहां उनको जिताने के लिए जोर लगा रही है, वहीं कांग्रेस उन्हें इस चुनाव में पटखनी देकर सबक सिखाने की फिराक में है. चुनावी भाषणों और बयानों में आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है. कांग्रेस की ओर से ज्योतिरादित्य सिंधिया को गद्दार कहा गया. उन्होंने इसका जवाब देते हुए इतिहास के पन्ने खोल डाले हैं. उन्होंने पूर्व सीएम कमलनाथ (Kamalanath) और दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) को सबसे बड़ा गद्दार बताया है.            

यह भी पढ़ें

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि ”मुझे गद्दार कहते हैं, अरे कमलनाथ जी और दिग्विजय सिंह जी इतिहास के पन्ने पलट लो, डीपी मिश्रा जी ने जनता के खिलाफ कदम उठाया था तब राजमाता ने डीपी मिश्रा जी की सरकार को जमीन पर लाकर मिट्टी चटा दी थी. कमलनाथ और दिग्विजय सिंह मध्यप्रदेश के सबसे बड़े गद्दार हैं.”

इस चुनाव में बीजेपी की ओर से मुख्य रूप से वे नेता चुनाव मैदान में हैं जो कुछ माह पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कांग्रेस छोड़कर आए हैं. इन नेताओं को जिताना ज्योतिरादित्य और बीजेपी दोनों के लिए प्रतिष्ठा का प्रश्न है.    

ज्योतिरादित्य सिंधिया का राहुल गांधी पर तंज, कहा – उनकी सोच बस… 

मध्यप्रदेश में 27 विधानसभा सीटों के लिए होने वाले उपचुनाव को लेकर बीजेपी और कांग्रेस की तरफ से तैयारी तेज हो गई है. कांग्रेस छोड़ने के बाद से ज्योतिरादित्य सिंध‍िया लगातार कांग्रेस पर हमलावर रहे हैं. हाल ही में राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंध‍िया ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर हमला बोला है. सिंध‍िया ने कहा है “कमलनाथ ने फसल बीमा योजना के एक भी पैसे का वितरण नहीं किया. वर्तमान मुख्यमंत्री ने पद ग्रहण करते ही इस योजना के तहत 15 लाख किसानों के खातों में 2990 करोड़ रुपये जारी किए.”  साथ ही उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की ग्वालियर में 15 दिन पहले एक आधिकारिक बैठक हुई थी. उन्होंने राज्य में अवैध रेत खनन को रोकने की दिशा में काम करने के लिए बहुत सख्त आदेश दिए हैं. कानूनी उद्यमों को प्रोत्साहित किया जाएगा लेकिन अवैध लोगों को पूरी तरह से रोका जाएगा. 

कोरोना को ठेंगा बताकर निकाली जा रही कलश यात्रा, चुनावी माहौल में सोशल डिस्टेंसिंग का क्या काम!

इससे पहले मध्यप्रदेश के आगामी उपचुनाव को महत्वपूर्ण बताते हुए सिंधिया ने कहा था कि आने वाला उपचुनाव मध्यप्रदेश का भविष्य तय करेगा और जनता तय करेगी कि उसे कौन चाहिए बड़ा-छोटा भाई या त्रिमूर्ति. राज्यसभा सदस्य सिंधिया ने अपने गढ़ ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में बीजेपी के तीन दिवसीय सदस्यता अभियान के अंतिम दिन ग्वालियर में कहा था कि  ‘‘आने वाला उपचुनाव न्याय और सम्मान का है और जो व्यक्ति जनता के बीच नहीं रहता, उसे वोट मांगने का कोई हक नहीं है. आने वाला चुनाव मध्य प्रदेश का भविष्य तय करेगा.”



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here