फिच ने 2021-22 के लिए भारत के वृद्धि दर के अनुमान को बढ़ाकर 12.8 प्रतिशत किया

0
89


प्रतीकात्मक तस्वीर.

नयी दिल्ली:

फिच रेटिंग्स (Fitch Ratings) ने अगले वित्त वर्ष 2021-22 के लिए भारत की वृद्धि दर का अनुमान बढ़ाकर 12.8 प्रतिशत कर दिया है. पहले रेटिंग एजेंसी ने अगले वित्त वर्ष में वृद्धि दर 11 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया था. फिच ने अपने ताजा वैश्विक आर्थिक परिदृश्य (जीईओ) में कहा है कि भारत लॉकडाउन की वजह से आई मंदी की स्थिति से उम्मीद से अधिक तेजी से उबरा है. फिच ने कहा, ‘‘मजबूत पूर्व प्रभाव, राजकोषीय रुख तथा संक्रमण पर बेहतर तरीके से रोक’ की वजह से उसने भारत की आर्थिक वृद्धि के अनुमान में संशोधन किया है.”

यह भी पढ़ें

PM मोदी की दाढ़ी पर केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस सांसद में भिड़ंत, मुरलीधरन बोले- इलाज कराएं शशि थरूर

रेटिंग एजेंसी ने कहा कि 2020 की दूसरी छमाही में पुनरुद्धार से सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) अपने महामारी पूर्व के स्तर पर पहुंच गया है. ऐसे में हमने 2021-22 के वृद्धि दर के अनुमान को 11 प्रतिशत से संशोधित कर 12.8 प्रतिशत कर दिया है. इसके साथ ही फिच ने कहा, ‘‘हमारा अनुमान है कि भारत का सकल घरेलू उत्पाद हमारे महामारी पूर्व के अनुमान से नीचे रहेगा.”

बजट में किये गये सुधार उपाय भारत को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने में करेंगे मदद: CEA

दिसंबर में जीडीपी की वृद्धि दर महामारी पूर्व के स्तर को पार कर गई. तिमाही के दौरान सालाना आधार पर जीडीपी में 0.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई. इससे पिछली तिमाही में जीडीपी में 7.3 प्रतिशत की गिरावट आई थी.  रेटिंग एजेंसी ने कहा कि 2020 के कैलेंडर साल की दूसरी तिमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था लॉकडाउन की वजह से मंदी में चली गई थी. लेकिन उसके बाद यह हमारे अनुमान से अधिक तेजी से उबरी है. फफिच ने कहा कि 2020 के अंतिम महीनों में संक्रमण के मामलों में कमी और राज्यों और संघ शासित प्रदेशों में अंकुशों में ढील के बाद अर्थव्यवस्था में तेजी से सुधार हुआ है.

Video : बजट घोषणाओं पर मुख्य आर्थिक सलाहकार बोले, वादों से कहीं बेहतर प्रदर्शन होगा

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here