सरकार का संसद में दूसरा ‘अजीब’ बयान, ”फर्जी खबरें’ फैलने के कारण बड़ी संख्‍या में प्रवासी श्रमिकों ने किया पलायन

0
81


कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान बड़ी संख्‍या में प्रवासी मजदूरों की भीड़ ‘अपने घर’ लौटने के लिए उमड़ी थी

नई दिल्‍ली:

कोरोना वायरस के मुकाबले के लिए (fight against coronavirus) मार्च में देश में लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown)के दौरान प्रवासी मजदूरों (migrant Labours) का बड़ी संख्‍या में पलायन (Exodus)’फर्जी खबरें’ प्रसारित किए जाने के कारण हुआ. केंद्र सरकार ने यह बात मंगलवार को संसद में कही. इससे पहले सोमवार को एक और ‘अजीबोगरीब’ बयान देते हुए सरकार की ओर से कहा गया था कि उसके पास प्रवासी मजदूरों की मौत का आंकड़ा नहीं है, इस कारण मुआवजा देने का सवाल ही नहीं उठता. गृह मंत्रालय ने तृणमूल कांग्रेस की सांसद माला राय के लिखित प्रश्‍न के जवाब में यह बात कही. उन्‍होंने पूछा था कि 25 मार्च को लॉकडाउन लागू करने के पहले प्रवासी मजदूरों की ‘सुरक्षा’ (Protect) के लिए क्‍या कदम उठाए गए थे. इस कारण हजारों की संख्‍या में मजदूर पैदल ही अपने घर लौटने के लिए मजबूर हुए और कई को अपनी इस यात्रा के दौरान ही जान गंवानी पड़ी.

यह भी पढ़ें

गृह राज्‍य मंत्री नित्‍यानंद राय ने अपने जवाब में कहा, ‘बड़ी संख्‍या में प्रवासी मजदूरों और लोगों का पलायन, लॉकडाउन की अवधि को लेकर गढ़ी गई खबरों के कारण हुआ. प्रवासी मजदूरों की बात करें तो वे  भोजन, पीने के पानी, स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं और आश्रय जैसी आम जरूरत की चीजों की निर्वाध आपूर्ति को लेकर चिंतित थे.’  

‘सरकार ने नहीं गिना, तो क्या मौत नहीं हुई’ सरकार पर बरसे राहुल गांधी



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here