Health Tips: ये 6 खतरनाक चीज़ें जो बढ़ा सकती हैं आपके डिप्रेशन को, बनाएं इनसे दूरी

0
101


Health Tips: आज के इस वक़्त में मानसिक तनाव एक ऐसी बीमारी है जो दिमाग के साथ साथ शरीर को भी ले डूबती है. इस मानसिक तनाव को कम करने के लिए आपने कई तरीके अपनाए होंगे. लेकिन क्या आपको उन तरीकों से कोई फायदा मिला? क्या आपके द्वारा अपनाए गए तरीकों से आपका डिप्रेशन कम हुआ? हम ऐसा इसीलिए कह रहे हैं क्योंकि बिना खान पान में बदलाव किये डिप्रेशन से मुक्ति असंभव है. आप सोच रहे होंगे कि भला खाने से आपके डिप्रेशन आपके तनाव का क्या लेना देना. तो हम आपको बता दें कि खाने का हमारे दिमाग पर गहरा असर होता है.

अगर अच्छी चीज़ों का सेवन किया जाए तो तनाव कम होता है लेकिन अगर नुक्सानदेह चीज़ों का सेवन किया जाए तो ये आपके डिप्रेशन को बढ़ा सकता है. दरअसल, कई बार ऐसा होता है कि कुछ भोजन पदार्थ खाने से आप का मूड अचानक से बहुत खराब हो जाता है. उन भोजन पदार्थो में कुछ ऐसी चीजें मिली होती हैं जो आपके मूड पर डायरेक्ट प्रभाव डालतीं हैं और आपके डिप्रेशन को बढ़ाने का काम करती हैं. अगर आप डिप्रेशन के शिकार हैं तो आप को अपने खाने पीने का विशेष तौर से ख्याल रखना चाहिए, इसके अलावा आज जिन 6 चीज़ों का ज़िक्र हम अपने लेख में करने जा रहे हैं उन चीज़ों को नज़रंदाज़ कर उनसे दूरी बना लेनी चाहिए.

फ्रूट जूस

जिस फ्रूट जूस को आप बड़े ही स्वाद के साथ लाभकारी मान कर पीते हैं असल में वो आपको मानसिक तौर पर बीमार करने का काम करता है. फ्रूट जूस आपकी बॉडी में मौजूद ब्लड को एनर्जी में नहीं बदलने देता. ऐसा इसीलिए क्योंकि अगर फलों को हटा दिया जाए तो आप केवल मीठा पानी ही पी रहे हैं, जो आप के मूड को बहुत जल्दी खराब कर सकता है. यदि आपको डिप्रेशन है तो , फ्रूट जूस से जितना हो सके उतना बचें और साबुत फल खाएं. अगर आप किसी काम से बाहर हैं और आपको प्यास लगी है, तब भी फ्रूट जूस को पीने की बजाय सादे पानी ही पियें.

टोस्ट

टोस्ट जो आप अक्सर सुबह चाय के साथ बड़े ही शौक से और मज़े में खाते हैं, एक हेल्दी ऑप्शन बिलकुल भी नहीं है. ऐसा इसीलिए क्योंकि जैसे ही आप टोस्ट खाते  हैं वो आपके शरीर के अंदर जा कर ब्लड शुगर का रूप ले लेता है, जो आपके डिप्रेशन व चिंता के लिए बेहद ही नुक़सान दायक हो सकता है. तो बेहतर है कि टोस्ट को छोड़ किसी हेल्दी नाश्ते को अपनाएं. अगर आप को टोस्ट पसंद है आप उसे छोड़ नहीं सकते तो सफेद ब्रेड का प्रयोग करने के बजाय ब्राउन या होल ग्रेन ब्रेड का प्रयोग करें.

सोडा

जिस सोडे को आप चटकारे लेकर पीते हैं वो सोडा आपके लिए बहुत नुक़सान दायक साबित हो सकता है. सोडा जैसी शुगर ड्रिंक्स आपके दिमाग पर सीधा असर डालकर आपके डिप्रेशन व चिंता को बढ़ावा देती हैं. सोडे का सेवन आपके दिमाग को बेहद कमज़ोर बना देता है और इसके असर से डिप्रेशन तेज़ी से बढ़ता है. इसीलिए ज़रूरी है कि आप अपने दिमाग की सेहत के लिए सोडा पीने की सोचना भी नहीं.

कॉफी

अगर आप कॉफ़ीहोलिक हैं तो आपको जल्द ही अपनी ये आदत बदल लेने की ज़रुरत है. क्योंकि कॉफी में मौजूद कैफ़ीन आपके दिमाग पर प्रहार कर आपको नर्वस कर देता है जिसकी वजह से आपका डिप्रेशन और एंग्जाइटी और भी बदतर हालत में जा सकता है. और तो और, कॉफी में मौजूद कैफ़ीन आपके दिमाग को सीधा हिट कर आपको नींद भी नहीं आने देता है.

कैचअप

अगर आपको अपने हर स्नैक के साथ कैचअप खाना बहुत पसंद है तो जान लीजिये कि इसमें शुगर की मात्रा तो किसी भूसे के सामान होती है मगर टमाटर की संख्या उस भूसे में सुईं के सामान. यानी कि जिस टोमेटो कैचअप को आप इतने स्वाद के साथ खाते हैं वो सिर्फ मीठे का ढेर है जो आपके मूड को खराब करने में बहुत अधिक देर नहीं लगता. इसीलिए अगर आपको अपने डिप्रेशन को डेंजरस स्टेज तक नहीं लेकर जाना है तो कैचअप को ना कहने की आदत दाल लें.

शराब

थोड़ी सी जो पीली है तो आपने गलती बहुत बड़ी की है, क्योंकि शराब की थोड़ी सी भी मात्रा आपकी नींद उड़ाने के लिए काफी है. समय पर नींद न आना और पर्याप्त मात्रा में आराम न कर पाना आपके डिप्रेशन को एक भयंकर परिणाम तक ले जा सकता है. बता दें की, जहां एक तरफ शराब आपकी बेहतर नींद के रास्ते में किसी रोड़े का काम करती है तो वहीं शराब आपके दिमाग की सेहत के रास्ते खोल सकती है. हालांकि, ये शराब की मात्रा पर निर्भर करता है. इसीलिए ये ज़रूरी है की अगर इसे लें तो एक सटीक मात्रा में.

प्रोसेस्ड फ़ूड

अगर आप बहुत ज़्यादा प्रोसेस्ड मीट, तला हुआ भोजन, प्रोसेस्ड अनाज, कैंडी, पेस्ट्री और उच्च वसा वाले डेयरी उत्पाद खाते हैं, तो आप चिंतित और उदास होने की अधिक संभावना रखते हैं. इसीलिए जितना संभव हो सके प्रोसेस्ड खाद्य का सेवन कम करें. अपने डिप्रेशन या तनाव को कम करने के लिए फाइबर युक्त अनाज, फल, सब्जियां और मछली से भरा आहार खाएं, इनसे आपके दिमाग को शांत रहने में मदद मिलेगी.

Chanakya Niti: माता पिता को बच्चों के मामले में चाणक्य की इन 3 बातों को कभी नहीं भूलना चाहिए 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here