Health Tips: दिल की बीमारी से जुड़ी इन 5 बातों का महिलाओं को रखना चाहिए खास ख्याल

0
24


Health Tips: हृदय रोग, जो आपके दिल के साथ साथ आपके दिमाग को भी अपना निशाना बनाता है. जहां एक तरफ बीमारी आपके दिल में घर कर रही होती है वहीं इसकी टेंशन में आपका दीमाग भी बीमार होने लगता है. आजकल दिल की बीमारियों के केसेस बहुत सामने आ रहे हैं. महिलाएं हो या पुरुष दोनों में से कोई भी हृदय रोग से अछूता नहीं. हालांकि, दिल की बीमारी के लक्षण दोनों में अलग अलग हो सकते हैं क्योंकि महिलाओं में कुछ ऐसे रोग देखने को मिलते हैं जो पुरुषों में नहीं होते. इस नज़रिये से आपके लिए ये ज़रूरी हो जाता है कि आप अपने हृदय के बारे में जानकारी रखें. अगर आपको पता होगा कि आप को कैसा रोग हो सकता है और आप उससे कैसे बच सकती हैं तो आप उस वक़्त अपने आपको किसी बड़े खतरे से बचा सकती हैं. तो आइये जानते हैं दिल से संबंधित वो 5 बातें जिनका महिलाओं को रखना चाहिए खास ख्याल.

वो लक्षण जो चेताएं आपको

अक्सर दिल का दौरा पड़ने में व्यक्ति को सीने में बहुत तेज़ दर्द उठता है. लेकिन महिलाओं में ये लक्षण कम देखने को मिलते हैं. हार्ट अटैक या हार्ट से जुड़ी कोई भी समस्या के दौरान, महिलाओं को सीने में दर्द के बदले सांस की तकलीफ होने की संभावना अधिक होती है. अगर आप भी इस परेशानी से जूझ रही हैं तो जान लें कि हार्ट अटैक से पहले आपकी सांस पहले से ज़्यादा छोटी हो जाएंगी व जल्दी जल्दी फूलने लगेंगी. आप को अपने जबड़े, ऊपरी पेट व अपनी पीठ में दर्द महसूस होने लगेगा. इसके आपको मिचली, लू लगना या चक्कर आना भी महसूस हो सकता है.

स्कैड

यह तब होता है जब आप के दिल की कोई रक्त धमनी फट जाती है. इसके दौरान आप का खून या तो धीमा हो जाता है या रुक जाता है. जिसके चलते आपको छाती में थोड़ा बहुत दर्द महसूस होने लगता है. इसलिए हमारी सलाह है कि जब भी आपको ऐसे लक्षण महसूस हों आप फ़ौरन अपने डॉक्टर से संपर्क कर अपना इलाज शुरू करवाएं.

सूजन

यदि आपको रुमेटीइड गठिया या ल्यूपस है, तो आपको हृदय रोग की संभावना अधिक होती है. इसके लिए ज़रूरी है कि व्यायाम करें और धूम्रपान करने से बचें. दवाओं के साथ अपनी सूजन को नियंत्रित रखें. लेकिन स्टेरॉयड से दूर रहने की कोशिश करें क्योंकि ये आपके दिल की बीमारी को बढ़ा सकता है. अपने दिल की रक्षा के लिए सबसे अच्छे तरीके के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें.

ब्रोकन हार्ट सिंड्रोम

ये बीमारी पुरुषों से ज़्यादा महिलाओं में पाई जाती है. ऐसा होने का कारण आप के जज़्बात हो सकते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि जब आप के स्ट्रेस हार्मोन बहुत अधिक मात्रा में होते हैं तो आप के हृदय का एक हिस्सा अधिक बड़ा हो जाता है, जिसकी वजह से उसे ब्लड पंप करने में दिक्कत महसूस होती है. और इसी के चलते आपको

यह सिंड्रोम फील होता है. इअसे हालत में आप को जल्द से जल्द इसका इलाज कराना चाहिए.

तनाव

तनाव आप के हृदय रोग होने की सम्भावना को कई गुना बढ़ा देता है. यह आप को बहुत कम एक्टिव रहने देगा जिसके नतीजन आप अपनी सेहत पर अधिक ध्यान भी नहीं दे पाएंगे. लगातार रहने वाला स्ट्रेस आप के हृदय के लिए बहुत नुक़सान दायक है. ऐसी स्थिति में आप किसी डॉक्टर के अलावा थेरेपिस्ट की मदद भी ले सकती हैं.

Chanakya Niti: चाणक्य के अनुसार ऐसे लोग कहलाते हैं मूर्ख, नहीं मिलता है सम्मान



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here