Manipuri – मणिपुरी | Indian Dance and Music

Manipuri - मणिपुरी Indian Dance and Music

Indian Dance and Music | Manipuri – मणिपुरी :

Land of classical Manipuri as known to the world, love of art and beauty goes with the people with a perfect natural background. Manipuri Dance being a classical form of dance has many items in the repertoire include martial dance with swords and performers dancing and drumming at the same time. Manipuri – मणिपुरी | Indian Dance and Music

Also read: Bharatnatyam – भरतनाट्यम | Indian Dance and Music

मणिपुरी नृत्य पूर्वोत्तर के मणिपुर क्षेत्र से आया शास्त्रीय नृत्य मणिपुरी नृत्‍य है। मणिपुरी नृत्‍य भारत के अन्‍य नृत्‍य रूपों से भिन्‍न है। … यह नृत्‍य रूप 18वीं शताब्‍दी में वैष्णव सम्प्रदाय के साथ विकसित हुआ जो इसके शुरुआती रीति रिवाज और जादुई नृत्‍य रूपों में से बना है।

मणिपुरी रासलीला तीन प्रकार के हैं :

  1. ताल-रसक – जिसमें तालियों को भी साथ में बजाया जाता है।
  2. दण्ड-रसक – इसमें दो छडि़यों के द्वारा समकालिक ताल या Synchronous beat को create किया जाता है, जहाँ नर्तकियाँ एक Geometric Pattern को form करती हैं।
  • मणिपुरी नृत्य का नाम इसके उद्भव स्थल मणिपुर के नाम पर पड़ा जिसको ‘‘जोगई’’ भी कहते हैं।
  • भारत की अन्य प्रमुख शास्त्रीय नृत्य शैलियों से भिन्न इस नृत्य शैली में भक्ति पर अधिक बल दिया जाता है।
  •  इसकी उत्पत्ति भी पौराणिक मानी जाती है।
  • इसमें भी ताण्डव और लास्य का अद्भुत समागम देखने को मिलता है।
  • पारम्परिक तौर से इस शैली को भक्ति गीतों पर आधारित नृत्य-नाट्य रूप में प्रस्तुत किया जाता था, जहाँ मणिपुरी लोग ‘‘रासलीला’’ के माध्य से राधा-कृष्ण के मध्य प्रेम को प्रदर्शित करते थे। इसमें 64 प्रकार के रासों का प्रदर्शन किया जाता है। इसमें नर्तक और नर्तकियाँ राधा-कृष्ण एवं गोपियों का स्वरूप धारण कर मंच पर लीला करते हैं।
  • मणिपुरी नृत्य भारतीय और दक्षिण-पूर्व एशिया की सभ्यताओं और संस्कृतियों का मिश्रण है।
  • मणिपुरी नृत्य हाथों और शरीर के ऊपरी हिस्से द्वारा बनाई जाने वाली भगिंमाओं या Postures द्वारा प्रस्तुत किया जाने वाला एक खूबसूरत और मृदु सुशोभित नृत्य है।
  • इस नृत्य को करते समय नर्तक के चेहरे पर एक सुखद मुस्कान बनी रहती है।
  • एक सुखद मुस्कान, सजावटी चमकदार वेशभूषा और आभूषणों के साथ सुझौल शरीर की संरचना से यह निष्कर्ष निकालना बेहद आसान है कि मणिपुरी एक बेहद ही आकर्षक नृत्य शैली है। जहाँ लगभग हर नृत्य में घुंघरू पहनना उस नृत्य शैली से जुड़ा होता हैं वहीं मणिपुरी नृत्य शैली की एक और विशेषता यह भी है कि इसमें घुंघरू नहीं पहने जाते। Manipuri – मणिपुरी | Indian Dance and Music
  • मणिपुरी नृत्य का विषय ज्यादातर हिन्दु धर्म के वैष्णव सम्प्रदाय से होता है, परन्तु कुछ शिव और शक्ति सम्प्रदाय या स्थानीय देवी-देवताओं पर आधारित विषय भी इस नृत्य के प्रमुख विषयों में लिये जाते हैं।
  • ताण्डव मणिपुरी, शिव, शक्ति और योद्ध कृष्ण को प्रस्तुत करता है।
  • वहीं लास्य राधा-कृष्ण के प्रेम को प्रस्तुत करता है।

Also Read : Kathakali – कथकली | Indian Dance and Music

Ras lila is the epitome of Manipuri classical dance describing the transcendental love of Krishna and Radha and Gopis as narrated in ancient Hindu scriptures. According to legends of the Meitei Tribes of Manipur, when God created earth it was lumpy. Seven Lainoorahs danced on the lumpy sphere gently to make it smooth. Therefore, Manipuri dances are gentle and delicate. The body moves with slow, sinnous grace with undulating arm movements flowing into the fingers. It is multifaceted ranging from softest feminine to the obviously vigorous masculine. Manipuri – मणिपुरी | Indian Dance and Music

Ras is most significant and important part of Manipuri dance. It represents Bhakti Sringara which is sacred and beautiful. The dance is so expansive that it needs tremendous amount of control over body to achieve the graceful movements. The beauty of the dance lies on Sarvanga Abhinaya than Mukha Abhinaya (facial expressions). Mood is interpreted and message conveyed through entire body. The dance is a continuous flow, curved and rounded, one movement  delicately culminating into another. Manipuri – मणिपुरी | Indian Dance and Music

Also See : अनेकता मे एकता भारत की विशेषता

Facebook page : Click here

Note:

यदि आपके पास Hindi में कोई  article,  inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: indiafeel.com@gmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Main Menu