ऑक्‍सीजन संकट: AFMS कोविड हॉस्पिटल के लिए जर्मनी से आएंगे मोबाइल ऑक्‍सीजन जनरेटिंग यूनिट

0
187


कोरोना की दूसरी लहर के दौरान अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी की खबरें सामने आ रही हैं (प्रतीकात्‍मक फोटो)

नई दिल्ली:

देशभर में कोविड की दूसरी लहर के दौरान अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी की खबरों के बीच सेना के आर्म्ड फोर्सेस मेडिकल सर्विसेज यानी कि AFMS ने कमी को पूरा करने के लिए जर्मनी से ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट और कंटेनरों के आयात का निर्णय लिया है. जर्मनी से 23 मोबाइल ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट मंगाए जा रहे हैं, इन्हें कोविड मरीजों के लिए एएफएमएस अस्पतालों में लगाया जाएगा.इन ऑक्सीजन जनरेटिंग प्लांट के एक सप्ताह के अंदर पहुंचने की उम्मीद है. हर प्‍लांट में प्रति मिनट 40 लीटर और प्रति घंटा 2400 लीटर ऑक्सीजन उत्पादन करने की क्षमता है. इस दर पर यह प्‍लांट 24 घंटे में 20 से 25 रोगियों की जरूरतों को पूरा कर सकता है. इस प्लांट की खूबी यह है कि इन्हें कहीं भी आसानी से लगाया जा सकता है. अभी कुल 23 ऐसे प्लांट का आयात किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें

पीएम मोदी ने मुख्‍यमंत्रियों से कहा-सुनिश्‍चित करें, राज्‍यों के ऑक्‍सीजन टैंकर रोके नहीं जाएं ‘

गौरतलब है कि देश इस समय कोरोना की दूसरी लहर का सामना कर रहा है और ज्‍यादातर अस्‍पताल बेड्स, दवाओं और ऑक्‍सीजन की कमी का सामना कर रहे हैं. भारत में हर रोज़ पिछले दिन के मुकाबले संक्रमण के ज़्यादा नए केस सामने आ रहे हैं और पहले से ज़्यादा मरीज़ मौत का शिकार हो रहे हैं. शुक्रवार को देश में लगातार दूसरे दिन COVID-19 संक्रमण के तीन लाख से ज़्यादा केस दर्ज हुए. वैसे, यह लगातार छठा दिन है, जब देशभर में ढाई लाख से ज़्यादा कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामले दर्ज हुए हैं.

पानीपत से सिरसा आ रहा ऑक्सीजन टैंकर रास्ते से गायब, कोविड अस्पतालों में होनी थी सप्लाई

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, भारत में पिछले 24 घंटों के दौरान 3,32,730 नए COVID-19 केस दर्ज किए गए, जिन्हें मिलाकर देश में कुल संक्रमितों की संख्या एक करोड़ 62 लाख पार कर 1,62,63,695 हो गई है. इसी अवधि में देशभर में 2,263 मरीज़ों की मौत हुई, और यह भी एक दिन में कोरोनावायरस से हुई मौतों की अब तक की सबसे बड़ी तादाद है. इसके साथ ही देश में इस रोग से जान गंवाने वालों की कुल संख्या 1,86,920 हो गई है.

दिल्ली में ऑक्सीजन को लेकर ‘इमरजेंसी’ जैसे हालात क्यों, बता रहे हैं शरद शर्मा



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here