अगले हफ्ते करना चाहते हैं बाजार में कमाई, जानिये क्या है जानकारों की राय

0
167



Photo:PTI

कैसा रहेगा बाजार का अगला हफ्ता


नई दिल्ली। कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति, कंपनियों के वित्तीय परिणाम और औद्योगिक उत्पादन समेत वृहद आर्थिक आंकड़े इस सप्ताह बाजार की चाल तय करेंगे। इस सप्ताह अवकाश के कारण बाजार में चार दिन ही कारोबार होगा। इसके अलावा विदेशी संकेतों और रुपये में उतार-चढ़ाव का भी बाजार धारणा पर असर पड़ेगा। घरेलू शेयर बाजार बृहस्पतिवार को ईद के मौके पर बंद रहेंगे। जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘इस सप्ताह बाजार की प्रवृत्ति कोविड संक्रमण के मामलों की संख्या, कंपनियों के तिमाही परिणाम, मार्च महीने के औद्योगिक उत्पादन तथा अप्रैल महीने के मुद्रास्फीति के आंकड़े से निर्धारित होगी।’’ 

इस सप्ताह एशियन पेंट्स, जिंदल स्टील एंड पावर लि. ल्यूपिन, वेदांता, सिप्ला और डा.रेड्डीज लैबोरेटरीज के वित्तीय परिणामों पर निवेशकों की नजर होगी। मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज लि. के प्रमुख (रिटेल रिसर्च) सिद्धार्थ खेमका ने कहा, ‘‘ऐसा लगता है निवेशकों ने अपने आकलन में कोविड मामलों को ध्यान में रखा है और फिलहाल वे इसके अल्पकालीन प्रभाव से अलग देख रहे हैं। हालांकि महामारी को लेकर जोखिम लंबी अवधि तक रहने वाला है और इसकी रोकथाम के लिये विभिन्न राज्यों में ‘लॉकडाउन’ और अन्य पाबंदियां फिलहाल हटती नहीं दिख रही इससे बाजार में तेजी पर अंकुश लग रहा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अत: आने वाले समय में बाजार उतार-चढ़ाव के साथ सीमित दायरे में रह सकता है। आने वाले दिनों में कोविड-19 मामलों की संख्या और टीकाकरण की गति आर्थिक पुनरूद्धार की तेजी को तय करेंगी।’’ 

सैमको सिक्योरिटीज की इक्विटी प्रमुख निराली शाह ने कहा, ‘‘इस सप्ताह अवकाश के कारण कारोबारी दिवस कम होंगे। लेकिन बाजार के लिये मजबूती से आगे बढ़ने को लेकर कठिनाई बनी हुई है और यह उतार-चढ़ाव के साथ सीमित दायरे में रह सकता है। इस सप्ताह औद्योगिक उत्पादन, मुद्रास्फीति और विनिर्माण क्षेत्र के उत्पादन के आंकड़े आने की संभावना है। इसका भी बाजार पर असर देखने को मिल सकता है।’’ 

विश्लेषकों के अनुसार ब्रेंट क्रूड में उतार-चढ़ाव, रुपये की प्रवृत्ति और विदेशी संस्थागत निवेशको के निवेश का प्रतिरूप भी बाजार धारणा को प्रभावित करेगा। कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर और उसका अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव के बीच विदेशी निवेशक इस साल अप्रैल से इक्विटी बाजार में शुद्ध बिकवाल बने हुए हैं। डिपोजिटरी के आंकड़े के अनुसार एफपीआई (विदेशी संस्थागत निवेशक) ने अप्रैल में शुद्ध रूप से 9,659 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे जबकि मई के पहले सप्ताह में 5,936 करोड़ रुपये की बिकवाली की। स्वास्थ्य मंत्रालय के रविवार को जारी आंकड़े के अनुसार देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 4,03,738 नए मामले सामने आने के बाद अब तक संक्रमित हुए लोगों की कुल संख्या बढ़कर 2,22,96,414 हो गई। वहीं 4,092 और मरीजों की मौत होने के बाद कुल मृतक संख्या बढ़कर 2,42,362 हो गई।

 

यह भी पढ़ें: कोरोना संकट के बीच नौकरीपेशा लोगों के लिए आर्थिक मदद की सीमा बढ़ी, मोदी सरकार ने जारी की अधिसूचना

यह भी पढ़ें: WhatsApp यूजर्स के लिये बड़ी खबर, प्राइवेसी पॉलिसी समयसीमा को लेकर नरम पड़ी कंपनी 

 

 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here